ऊँ श्री चित्रगुप्ताय नमः

भगवान श्री नारायण जी के नाभि कमल से भगवान श्री ब्रह्मा जी का अवतार हुआ

सृष्टि की रचना की सारी जिम्मेदारी भगवान  ने श्री ब्रह्मा जी  को सौंपी

भगवान श्री ब्रह्मा जी ने सृष्टि की रचना की । देवता, दानव, राक्षस, गंधर्व, किन्नर, पक्षियों, जानवरों एवं मनुष्य आदि का निर्माण किया । धर्म की रक्षा का दायित्व धर्मराज को सौंपा गया । धर्मराज ने भगवान श्री ब्रह्मा जी से अपने कार्य के लिए कोई सहयोगी देने की प्रार्थना की । इसके निवेदन पर ब्रह्मा जी ने कई हजारों वर्षों तक तपस्या की जिससे ब्रह्मा जी की नाभि कमल से श्री चित्रगुप्त भगवान प्रकट हुए